Home » Rehan Per Ragghu by Kashinath Singh
Rehan Per Ragghu Kashinath Singh

Rehan Per Ragghu

Kashinath Singh

Published
ISBN : 9788126719648
Paperback
164 pages
Enter the sum

 About the Book 

रेहन पर रगघू परखयात कथाकार काशीनाथ सिंह की रचना-यातरा का नवय शिखर है। भूमंडलीकरण के परिणामसवरूप संवेदना, समबनध और सामूहिकता की दुनिया मे जो निरमम धवंस हुआ है- तबदीलियों का जो तूफान निरमित हुआ है- उसका परामाणिक और गहन अंकन है रेहन पर रगघू। यह उपनयासMoreरेहन पर रग्घू प्रख्यात कथाकार काशीनाथ सिंह की रचना-यात्रा का नव्य शिखर है। भूमंडलीकरण के परिणामस्वरूप संवेदना, सम्बन्ध और सामूहिकता की दुनिया मे जो निर्मम ध्वंस हुआ है- तब्दीलियों का जो तूफान निर्मित हुआ है- उसका प्रामाणिक और गहन अंकन है रेहन पर रग्घू। यह उपन्यास वस्तुतः गांव, शहर, अमेरिका तक के भूगोल में फैला हुआ अकेले और निहत्थे पड़ते जा रहे है समकालीन मनुष्य का बेजोड़ आख्यान है। उपन्यास में केन्द्रीय पात्र रघुनाथ की व्यवस्थित और सफल ज़िन्दगी चल रही है। सब कुछ उनकी योजना और इच्छा के मुताबिक। अचानक कुछ ऐसा यथार्थ इतना महत्वाकांक्षी, आक्रामक, हिंस्र है कि मनुष्यता की तमाम सारी आत्मीय कोमल अच्छी चीजें टूटने बिखरने, बरबाद होने लगती हैं। इस महाबली आक्रान्ता के प्रतिरोध का जो रास्ता उपन्यास के अन्त में आख्तियार किया गया वह न केवल विलक्षण और अचूक है बल्कि रेहन पर रग्घू को यादगार व्यंजनाओं से भर देता है।